तेज बुखार के समय आजमाए ये उपाय, चंद मिनटों में मिलने लगेगा आराम

मानसून की शुरुआत हुई और देश के कई हिस्सों में बूंदाबांदी भी शुरू हो गई। मानसून आने के साथ ही बीमारियां भी शुरू हो जाती हैं। बिहार में बुखार के कारण हाल ही में कई बच्चों की मौत हो गई है। ऐसे में जल्द ही इसका इलाज करने की जरूरत है। इसलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसे उपाय लेकर आए हैं, जिनकी मदद से किसी भी बुखार से मिनटों में छुटकारा पाया जा सकता है, इसलिए अगर आप भी इस जानकारी के बारे में जानना चाहते हैं, तो इस पोस्ट को अंत तक इसकी संपूर्णता में पढ़ें।


 आइए हम आपको उन उपायों के बारे में बताते हैं जो तेज बुखार से राहत दिला सकते हैं

 अदरक

 अदरक में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं जो बुखार से राहत देने में मदद कर सकते हैं। अदरक पाउडर को गर्म पानी के साथ मिलाएं और बीमार व्यक्ति को स्नान कराएं।

 प्याज

 प्याज बुखार के तापमान को कम करने में मदद करता है। इसका उपयोग करने के लिए, प्याज को पीस लें और अब पैरों पर लागू करें। ऐसा करने से शरीर का तापमान कम होता है।

 वह तेल

 अवा तेल शरीर के तापमान को कम करने में मदद करता है। इसका उपयोग करने के लिए, दो बड़े चम्मच सरसों के तेल को गर्म करें और इसमें लहसुन की दो से चार कलियाँ डालें। अब जब यह ठंडा हो गया है, तो इस तेल को शरीर और हाथों और पैरों के तलवों में मालिश करें, जिससे शरीर के तापमान के साथ-साथ शरीर का दर्द भी कम हो जाएगा।

 गीला तौलिया

 बुखार के तापमान को कम करने के लिए सिर पर गीला तौलिया रखने से भी शरीर का तापमान कम होगा। इसके अलावा, आप बुखार से राहत पा सकते हैं,

मानव शरीर में गुर्दे सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक हैं। इसका मुख्य कार्य अतिरिक्त पानी को निकालना और पानी को बनाए रखना है जब शरीर को इसकी सबसे अधिक आवश्यकता होती है। यदि आप भी इस जानकारी के बारे में जानना चाहते हैं, तो इस पोस्ट को अंत तक इसकी संपूर्णता में पढ़ें।

 मैं आपको इसके बारे में बताता हूँ

 गुर्दे मूत्र के माध्यम से रक्त और फिल्टर अपशिष्ट उत्पादों को साफ करते हैं।

 इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि गुर्दे ठीक से काम करें।

 1. अत्यधिक दर्द से राहत का सेवन

 दर्द की दवाएं दर्द को कम करती हैं, लेकिन यह आपके गुर्दे को भी बढ़ा सकती हैं।

 2. प्रोसेस्ड फूड खाना

 प्रोसेस्ड फूड फॉस्फोरस और सोडियम से भरपूर होते हैं। गुर्दे की बीमारी वाले लोगों को अपने भोजन में फास्फोरस को सीमित करना चाहिए।

 अध्ययनों से पता चला है कि संसाधित भोजन

 उदाहरण के लिए, फास्फोरस में उच्च खाद्य पदार्थों का सेवन गुर्दे के लिए खतरा पैदा कर सकता है।

Post a Comment

0 Comments